डीसीपी नरेश डोगरा और विधायक रमन अरोड़ा के आपसी विवाद में हुआ समझौता।

 

अखंड समाचार , जालंधर ( सौरव शर्मा ) : शहर में कल रात से चल रहे डी सी पी नरेश डोगरा व विधायक रमन अरोड़ा के विवाद में समझौता होने की खबर है। बताया जा रहा है एक सीनियर आप नेता ने विवाद को सुलझाते हुए दोनों पार्टियों में समझौता करवा दिया है।

बता दें कि शास्त्री मार्कीट में दुकान को लेकर डी.सी.पी. नरेश डोगरा और ‘आप’ विधायक रमन अरोड़ा के बीच विवाद हो गया था। मामला इतना भड़क गया कि डी.सी.पी. नरेश डोगरा के साथ हाथापाई हो गई थी। इस मामले ने काफी तूल पकड़ा हुआ था। दोनों तरफ से बारी-बारी अपने अपने हक में वीडियो जारी हो रहे थे।

शास्त्री मार्केट में दुकान के झगड़े को लेकर डोगरा पर मारपीट और विधायक से धक्का मुक्की करने और मारने का प्रयास करने का आरोप लगा था। पहले डी सी पी कानून व्यवस्था नरेश डोगरा के खिलाफ IPC की धारा 307 हत्या के प्रयास और जाति सूचक शब्द बोलने पर SC/ST एक्ट में मामला दर्ज करने की खबर आई, मगर बाद में पुलिस ने खुलासा किया कि ऐसा नहीं हुआ है।
दुकान को लेकर हुआ था विवाद

 

शास्त्री मार्केट में सामान रखने को लेकर विवाद शुरू हुआ था, जिसने मारपीट की नौबत आ गई। मारपीट में तीन लोग घायल हो गए। जिन दो दुकानदारों के बीच झगड़ा हुआ। उनमें से एक के पक्ष विधायक रमन अरोड़ा ले रहे थे, जबकि दूसरे दुकानदार को डी सी पी नरेश डोगरा अपना भांजा बता रहे थे। दोनों का विवाद खत्म करने के लिए सेंट्रल टाउन में ही एक दफ्तर में विधायक और डी सी पी डोगरा व उनके समर्थक का आमना सामना हो गया।

यहां विधायक के समर्थकों की डी सी पी के साथ बहस हो गई। इसी बीच दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई। जब बहस चल रही थी तो विधायक के समर्थकों ने विधायक को फोन लगा दिया। विधायक रमन अरोड़ा को फोन पर डी सी पी डोगरा से बात करने के लिए कहा। जब विधायक ने फोन पर डी सी पी नरेश डोगरा से बात की तो फोन पर ही दोनों में खूब कहासुनी हुई। डी सी पी नरेश डोगरा ने कहा कि वह अपने भांजे के साथ धक्का नहीं होने देंगे।

सिविल अस्पताल में जमकर हंगामा

मारपीट में विधायक समर्थक राहुल, सन्नी और उमेश घायल हुए। जब घायल सिविल अस्पताल पहुंचे तो वहां भी विधायक के समर्थकों ने हंगामा किया। तोड़फोड़ की। अस्पताल प्रशासन को देररात ही पुलिस फोर्स बुलानी पड़ी। विधायक रमन अरोड़ा ने कहा कि जो भी गलत होगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा।

डी सी पी के साथ फोन पर हुई बहस के बारे में कहा कि उनके पास रिकॉर्डिंग है, जिसे वह पुलिस कमिश्नर गुरशरण सिंह संधू को देंगे और डी सी पी के खिलाफ कार्रवाई के लिए कहेंगे। किसी भी किस्म की गुंडागर्दी सहन नहीं की जाएगी। डी सी पी ने कहा कि जिस प्रॉपर्टी के चक्कर में झगड़ा हुआ है, वह उनके भांजे की है। वह अपने भांजे के साथ किसी भी तरह का धक्का नहीं होने देंगे।

डीसीपी ने कही थी केस दर्ज करने की बात।

डी सी पी के खिलाफ केस दर्ज करने में भी काफी कशमकश हुई, लेकिन पुलिस कमिश्चनर गुरशरण सिंह के आदेश पर नरेश डोगरा के खिलाफ केस दर्ज करने के लिए थाने में डी सी पी इन्वेस्टिगेशन जसकिरणजीत सिंह तेजा पहुंचे। जिन लोगों के साथ मारपीट हुई, उनके बयानों के आधार पर ही मामला दर्ज करने की बात कही गई थी।

डी सी पी जसकिरणजीत सिंह तेजा ने कहा कि अभी तक जो लोग मारपीट में घायल हुए हैं, अस्पताल में भर्ती हैं, उनकी मेडिकल लीगल रिपोर्ट नहीं मिली है। फिलहाल मामला घायलों के बयानों के आधार पर दर्ज किया गया है। केस में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। अभी सिर्फ पर्चा दर्ज किया गया है। CCTV कैमरों की फुटेज कब्जे में ली जा रही है। मामले की अभी गहनता से जांच की जाएगी। इसके बाद ही अगली बनती कार्रवाई होगी। इस अवसर पर डी सी पी के साथ सेंट्रल के विधायक रमन अरोडा भी थाने में मौजूद थे।

सियासत और अफसरशाही आमने-सामने
मामले में दोनों पक्षों की ओऱ से वीडियो वायरल किए गए, जिसमें डीसीपी डोगरा ने एक वीडियो जारी की थी, जिसमें विधायक रमन अरोड़ा उन्हें डांट रहे थे। कहा जा रहा है कि पहले केस दर्ज करने की बात हुई थी, मगर फिर अफसरों ने इस मामले में स्टैंड ले लिया और सरकार ने फिर मामला दर्ज नहीं होने दिया और सुलझाने की कोशिशें शुरू हुईं, आखिरकार आप नेता ने मीटिंग बुला कुछ पल्लो में ही आपसी समझोता करवा ही दिया।

 

 

Vinkmag ad

Read Previous

डीसीपी नरेश डोगरा पर हमला करने वालों पर तुरंत हो एफ आई आर दर्ज : दीपक कंबोज।

Read Next

श्री मेहंदीपुर बाला जी का जागरण 15 अक्टूबर को मानने की तैयारिया हुई शुरू।